INDIA VS AUSTRALIA BORDER-GAVASKAR TROPHY 2020-2021

Bharat Ne Racha Etihas Australia Mai Lagatar Dusri Test Series Jitane Vali Asia Ki Pahali Team Ban gayi - भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई 2020-21 बॉर्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज भारत ने अपने नाम कर ली है। इसी के साथ भारत एशिया की पहली टीम बन गई है जिसने ऑस्ट्रेलिया को उसके ही घर पर लगातार दो सीरीज में हराया है। इससे पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 2018-19 की टेस्ट सीरीज में भी हराया था। यह टेस्ट सीरीज भारत ने 2-1से अपने नाम की है। इस सीरीज में कुल चार मेक्सह खेले गए थे इसमे से पहला मैच भारत बुरी तरह से हारा था इसके बाद भारत का इस सीरीज में जितना मुश्किल लग रहा था। कही दिग्गजो ने तो यहां तक कि बात कर दी थी कि भारत यह सीरीज 4-0 हारने वाला है। लेकिन फिर दूसरे टेस्ट मैच में भारत ने शानदार वापसी करते हुए जीत हासिल की ओर सीरीज को 1-1 की बरोबरि पर ला दिया इसके बाद तीसरा मैच ड्रॉ हुआ और चौथे मैच में भारत ने 328 रनो का बड़ा लक्ष्य हासिल करके जीत हासिल की ओर इस सीरीज को भी अपने नाम की।




पहला मैच भारत बुरी तरह से हारा था


इस बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी का पहला मैच 17 दिसम्बर 2020 के दिन से शुरू हुआ था यह मैच Day Night टेस्ट मैच था। और यह मैच में ऑस्ट्रेलिया ने 8 विकेट से जीत हासिल की थी। यह मेच तीन दिन के भीतर समाप्त हो गया था। पहले दो दिन का खेल समाप्त होने के बाद ऐसा लग रहा था कि भारत यह मैच जीतने के लिए फेवरिट है लेकिन फिर एक खराब सेशन के कारण भारत यह मैच हार गया। भारत की पूरी टीम सिर्फ 36 रनो पर सिमट गई और ऑस्ट्रेलिया को जीत के सिर्फ़ 90 रनो का टारगेट दे पाई ऑस्ट्रेलिया ने यह टारगेट दो विकेट गवा कर हासिल कर लिया ओर इस पहले Day Night टेस्ट मैच को जीत लिया।


दूसरे मैच में भारत ने शानदार वापसी की


पहले मैच में बुरी तरह से हार का सामना करने के बाद भारतीय टीम ने दूसरे टेस्ट मैच जोकि बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच था उसमे शानदार वापसी की इस मैच में भारत ने 8 विकेट से जीत हासिल की ओर सीरीज को 1-1 की बरोबरी पर ला दिया। यह जीत इस लिए भी अहम थी क्योंकि इस इस मैच में भारत के चार अहम खिलाड़ी नही थे। इशांत शर्मा पहले सेहि इस टूर से बाहर थे रोहित शर्मा भी इंजरी के कारण बाहर थे। उपर से कप्तान विराट कोहली पहला टेस्ट मैच खेलने के बाद भारत वापस लॉट गए थे। महोमद शामी को पहले मैच में बॉल लगने के कारण वह भी इस सीरीज से बाहर हो गए थे। ऐसे में भारत के अहम खिलाड़ी की गैरमौजूदगी में कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कप्तानी पारी खेलते हुए शतक जड़ा ओर भारत को जीत दिलाई।


तीसरा मैच ड्रॉ हुआ


1-1 की बरोबरी पर घड़ी सीरीज का तीसरा मैच 7 जनवरी 2021 के दिन शुरू हुआ था। यह मैच भी बहोत ही रोमांचक स्थिति में आकर ड्रॉ हुआ। इस मैच में भारत को जीत के लिए 407 रन बनाने थे। भारत चौथी पारी में बैटिंग करते हुए इस बड़े टारगेट का पीछा कर रहा था। भारत एक समय ऐसा लग रहा था कि यह मैच भारत जीत सकता है लेकिन ऋषभ पंत के आउट हो जाने के बाद इस बड़े से टारगेट का पीछा भारत नही कर पाया क्योकि इस मैच में भी रविन्द्र जडेजा ओर हनुमा विहारी दोनो अहम बैट्समैन को चोट लग गई थी इसके कारण भारत ने इस रनो का पीछा नही किया और फिर इस मैच को ड्रॉ किया इस मैच को ड्रॉ करने में रविचंद्रन अश्विन ओर चोटिल हनुमा विहारी का अहम योगदान रहा इन दोनों ने 266 बॉल पर 59 रनो की पार्टनरशिप की ओर इस मैच को ड्रॉ करवा दिया। भारत 72 रनो से पीछे रह गया अगर रविन्द्र जडेजा ओर हनुमा विहारी चोटिल नही होते तो यह मैच भी भारत जीत सकता था।


चौथा ओर आखरी मैच भारत ने जीता


इस सीरीज का आखरी ओर चौथा मैच 15 जनवरी 2021 से ब्रिस्बेन में खेला गया था इस मैच में भारतीय टीम बिना अनुभव की बॉलिंग लाइनअप के साथ मैदान में उत्तरी जसप्रीत बुमराह की जगह नटराजन को मौका दिया जडेजा की जगह शार्दूल ठाकुर को मौका दिया और रविचंद्रन अश्विन की जगह वाशिंगटन सुंदर को मौका दिया और हनुमा विहारी की जगह मयंक अग्रवाल को मौका दिया गया। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बैटिंग करते हुए पहली पारी में लबुशेन के शतक की मदद से 369 रन बनाए। जवाब में भारत के बैट्समैन कुच्छ ज्यादा नही कर पाए और एक समय ऐसा लग रहा था कि ऑस्ट्रेलिया को 150 के आसपास की लीड मिल जाएंगी लेकिन अपना पहला ही मैच खेल रहे वाशिंगटन सुंदर और शार्दूल ठाकुर ने ऑस्ट्रेलिया की खुशियों पर पानी फेर दिया और एक बहोत ही बढ़िया साझेदारी की। शार्दूल ने 67 ओर सुंदर ने 62 रनो की पारी खेली इन दोनी की पारी की मदद से भारत पहली पारी में 336 रन बना पाया। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी में 294 रन बनाए और भारत को जीत के लिए 328 रनो का लक्ष्य दिया मैच के आखरी दिन भारत को मैच ओर सीरीज जीत ने के लिए 324 रन बनाने थे।


इस समय ऑस्ट्रेलिया इस मैच को जीतने के लिए फेवरिट था और भारत अगर इस मैच को ड्रॉ भी करवा दी तो वह भी बड़ी बात थी। लेकिन भारतीय टीम के हौसले बुलंद थे। भारत वेनिस मैच को जीतने का ठान लिया था। लेकिन दिन के शुरुआती समय मेही भारत को बहोत बड़ा जटका लगा रोहित शर्मा सिर्फ 7 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद चेतेश्वर पुजारा ओर युवा बैट्समैन शुभमन गिल के बीच बढ़िया पाटर्नरशिप हुई और शुभमन गिल ने तेजतर्रार 91 रनो की पारी खेल कर भारत की जीत की बुनियाद रखी। वह अपने पहले टेस्ट शतक से मात्र 9 रन से चूक गए लेकिन भारत की जीत का रास्ता उन्होंने बना दिया था। दीवार की तरह घड़े चेतेश्वर पुजारा को ऑस्ट्रेलियाई बॉलर ने टारगेट किया और उनको एक के बाद एक कही सारे बॉल शरीर पर मारे लेकिन पुजारा ने हार नही मानी और वह डटे रहे। उनके साथ ऋषभ पंत ने आतिशी बैटिंग की ओर भारत को जीत की ओर अग्रेसर किया। पुजारा 56 रन बनाकर आउट हुए इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खेमे में खुशियां छा गई लेकिन फिर ऋषभ पंत ने उनसे वह खुशियां छीन ली और अंत तक नॉटआउट रह कर इस मैच को खतम किया और भारत को एक ऐतिहासिक जीत दिलाई।


भारत एशिया की एक मात्र टीम है जिसने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर पर लगातार दो बार टेस्ट सीरीज में मात दी है

इस ऐतिहासिक जीत के साथ भरात की टीम एक मात्र एशिया की टीम बन गई है जिसने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर पर टेस्ट सीरीज में लगातार दो बार धूल चटाई है। इससे पहले 2018-19 के दौरे में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर पर हराया था। और अब यह सीरीज में भी हराया है।


कुच्छ लोगो ने कहा था कि भारत 4-0 से यह सीरीज हारेगा


पहली मैच में मिली शर्मनाक हार के बाद कही सारे दिग्गजोने कहा था कि भारत यह सीरीज 4-0 से हारने वाला है। इस सीरीज जीत के साथ ही भारत ने इन सभी लोगो की बोलती बंद कर दी है। और उनको करारा जवाब दिया है। इसके बाद इन सभी लोगो ने भारत से माफी भी मांगी और भारत की जीत के तारीफों के फूल भी बांधे।


एक नई युवा टीम ने यह सीरीज जिताई


भारत को इस सीरीज में इंज्रिस का सामना बहोत ही करना पड़ा एक तो पहले सेहि इशांत शर्मा और भुवनेश्वर कुमार चोट के कारण इस सीरीज से पहले सेहि बाहर थे। इसके बाद पहले मैच में महोमद शामी को फैक्चर आ गया और वह इस सीरीज से बाहर हो गए। विराट कोहली भी भारत वापस लौट आये। रोहित शर्मा भी चोट के कारण पहले दो मैचों से बाहर थे। इसके बाद उमेश यादव को दूसरे मैच में चोट लग गई। के एल राहुल को प्रेक्टिस में चोट लगी और वह भी भारत लौट आये। तीसरे मैच में हनुमान विहारी ओर रविन्द्र जडेजा इंजर्ड हो गए और सीरीज से बाहर हो गए। चौथे मैच में अश्विन ओर बुमराह को भी चोट के कारण आराम दिया गया था। ऐसे में भरात के युवा खिलाड़ी ऋषभ पंत, शुभमन गिल, महोमद सिराज, शार्दूल ठाकुर, वाशिंगटन सुंदर, टी नटराजन ओर नवदीप सैनी जैसे युवा खिलाड़ियों ने अहम भूमिका अदा की ओर भारत को यह ऐतिहासिक सीरीज जिताई।